Home

न तुम हो, न हम हैं
यहाँ भ्रम ही भ्रम हैं ।

दिशाहीन राहें,
भटकते क़दम हैं ।

नहीं कोई ब्रह्मा,
कई क्रूर यम हैं ।

मिले सर्जना को,
ग़लत कार्यक्रम हैं ।

यहाँ श्रेष्ठता में,
पुरस्कृत अधम हैं ।

किसी के भी दुखड़े
किसी से न कम हैं ।

पुकारा जिन्होंने,
अरे, वे वहम हैं ।

Advertisements

6 thoughts on “शुभ प्रभात

  1. भ्रम मे सत्य को ढूंढना और दिशाहीन होने पर दिशा ढूंढना यही तो जीवन का सत्य है..
    है ना ?

    आपसे हिंदी सीख सकती हूँ 🙂

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s